//इस जिले में किसानों के 10.62 करोड़ रुपये के फसली ऋण किये गए माफ

इस जिले में किसानों के 10.62 करोड़ रुपये के फसली ऋण किये गए माफ

किसान कर्ज माफी दूसरा चरण

जय किसान फसल ऋण माफ़ी योजना का दूसरा चरण चल रहा है जिसमें किसानों के 50 हजार रुपये से 1 लाख रुपये तक का ऋण माफ़ किया जा रहा है | इस योजना का लाभ किसानों को जिले दर जिले दिया जा रहा है इसके तहत प्रदेश के मंत्री लगातार सभाएं कर किसानों को ऋण माफी प्रमाण पत्र वितरित कर रहे हैं | जय किसान फसल ऋण माफ़ी योजना के अन्तर्गत मध्य प्रदेश के किसानों को 50 हजार रूपये से लेकर 1 लाख रूपये तक अक लोन माफ़ किया जा रहा है |

देवास जिले के किसानों के किये गए ऋण माफ़

इसी के अंतर्गत अलग–अलग जिलों में राज्य के कैबिनेट मंत्री किसानों को ऋण माफ़ी का प्रमाण पत्र दे रहें हैं | मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्री जीतू पटवारी ने अपने प्रभार के जिला देवास में हाटपिपलिया कृषि उपज मंडी प्रांगण में जय किसान फसल ऋण माफ़ी योजना में दिव्तीय चरण में 1599 किसानों को 10 करोड़ 62 लाख रूपये के ऋण माफ़ी प्रमाण – पत्र वितरित किए |

इससे पहले मंत्री श्री पांसे ने बैतूल जिले में द्वितीय चरण में जनवरी 2020 तक 12 हजार 212 किसानों के 81 करोड़ से अधिक की ऋण माफ़ी की स्वीकृति दी गई थी | इसके पहले प्रथम चरण में मार्च 2019 तक 65 हजार 947 किसानों के 183 करोड़ के फसल ऋण माफ किये गये | | इस प्रकार जिले में प्रथम एवं दिव्तीय चरण में कुल 78 हजार 159 किसानों के करीब 265 करोड़ के ऋण माफ किये गये |

मंत्री जी ने बताया कि दो चरणों में देवास जिले के लगभग एक लाख किसानों का कर्ज माफ़ किया जा चूका है | उन्होंने कहाँ कि राज्य सरकार की सोच है कि किसानों को उनकी उपज का वाजिब मूल्य मिले | इसके लिए सरकार प्रयास कर रही है |

मंत्री श्री पटवारी ने बताया कि गांव की समस्याओं का गांव में ही समाधान करने के लिए आपकी सरकार – आपके द्वारा कार्यक्रम शुरू किया गया है | पहले वर्ष एक हजार गौ – शालाएं स्वीकृत की | अब दुसरे साल 3 हजार गौ – शाला खोलने का निर्णय लिया गया है | देवास जिले में पहले वर्ष 30 गौ–शालाएं स्वीकृत की गई | दुसरे साल में 90 गौ – शालाएं और बनाई जाएँगी |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

The post इस जिले में किसानों के 10.62 करोड़ रुपये के फसली ऋण किये गए माफ appeared first on Kisan Samadhan.

Source