//ओले गिरने से हुए फसल नुकसान का आकलन करने के लिए चलाया जाएगा गिरदावरी अभियान

ओले गिरने से हुए फसल नुकसान का आकलन करने के लिए चलाया जाएगा गिरदावरी अभियान

ओलावृष्टि से हुए नुकसान का आकलन

देश के विभन्न राज्यों में ओले गिरने से किसानों की फसलों को बहुत अधिक नुकसान हुआ है और यह आगे भी जारी रहने का अनुमान है | कहीं-कहीं तो किसानों की 90 प्रतिशत की फसलें ख़राब हो गई है | ऐसे में किसानों को सरकार से ही उम्मीद है ओलावृष्टि से हो रहे नुकसान का कुछ मुआवजा उन्हें दिया जाएगा | सभी राज्य सरकारें उनके राज्यों में ओलावृष्टि से हो रहे नुकसान की भरपाई के लिए आगे आई है | राज्यों के मुख्यमंत्रियों द्वारा किसानों की सहायता करने का आश्वासन दिया गया है | इसमें बिहार, राजस्थान एवं उत्तरप्रदेश में ओलावृष्टि से नुकसान अधिक हुआ है | राजस्थान सरकार ने किसानों को ओलावृष्टि से हो रहे नुकसान के लिए विशेष गिरदावरी अभियान चलाया जा रहा है |

वही उत्तर प्रदेश सरकार ने एक टोल फ्री नम्बर जारी किया है | जिस पर किसान ओलावृष्टि, जलभराव, आकाशीय बिजली से फसल की क्षति की स्थिति में बीमित किसानों को घटना के 72 घंटे के अंदर सूचना बीमा कंपनी के टोल फ्री नंबर 1800-120-909090 रजिस्टर कराना आवश्यक है।

10 से 15 दिनों तक विशेष गिरदावरी अभियान चलाया जाएगा

आपदा प्रबंधन मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने विधान सभा में कहा कि प्रदेश में ओलावृष्टि होने से किसानों को हुए नुकसान के प्रति मुख्यमंत्री एवं हमारी सरकारी पूरी तरह गंभीर एवं संवेदनशील है। किसानों को ओलावृष्टि में हुए नुकसान का आकलन करने के लिए अगले 10 से 15 दिन में विशेष गिरदावरी करवाकर किसानों को हुए नुकसान का पूरा मुआवजा  दिलवाया जाएगा। उन्होंने नागौर में आकाशीय बिजली गिरने से दो महिलाओं की मृत्यु होने पर उनके परिजनों को चार लाख रूपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार गिरदावरी के माध्यम से ओलावृष्टि से हुए नुकसान का संपूर्ण आकलन करवा कर सभी प्रभावित किसानों को तत्काल सहायता उपलब्ध कराने हेतु तत्पर है।

इन जिलों में हुआ है ओलावृष्टि से नुकसान

प्रदेश में 04 वं 05 मार्च 2020 को हुई ओलावृष्टि से फसल खराबे की प्रारम्भिक सूचना जिलों से प्राप्त की गई है। जिला अलवर, बाड़मेर, भरतपुर, दौसा, गंगानगर, हनुमानगढ़, जयपुर, जोधपुर, करौली, सवाईमाधोपुर, बून्दी, बीकानेर, चूरू एवं झुंन्झुनूं से खराबे की सूचना प्राप्त हुई है। जिला अलवर, बाड़मेर, भरतपुर, दौसा, गंगानगर, हनुमानगढ़, जयपुर, जोधपुर, करौली एवं सवाई माधोपुर में 33 प्रतिशत या इससे अधिक खराबे की सूचना प्राप्त हुई है। अलवर की 02 तहसीलों, तहसील रामगढ़ के 48 गावों में 63 से 74 प्रतिशत व तहसील अलवर के 04 गांवों में 35 से 80 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई। इसी प्रकार जिला बाड़मेर की 01 तहसील गुड़ामालानी के 09 गांवों में 40 से 50 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है।

जिला भरतपुर की 02 तहसील नदबई के 02 गांवों में 10 से 80 प्रतिशत व कुम्हेर के 08 गांवों में 50 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला दौसा की 03 तहसीलों लवाण के 03 गांवों में 35 से 40 प्रतिशत, रामगढ़ पचवारा के 16 गांवों में 40 से 80 प्रतिशत व लालसोट के 07 गांवों में 40 से 80 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला गंगानगर की 01 तहसील अनूपगढ़ के 04 गांवों में 33 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला हनुमानगढ़ की 01 तहसील नोहर के 04 गांवों में 40 से 60, 11 गांवों में 25 से 50 व 05 गांवों में 20 से 35 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला जयपुर की 02 तहसीलों, तहसील जयपुर के 04 गांवों में 45 प्रतिशत एवं कोटखावदा के 23 गांवों में 50 से 90 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला जोधपुर की 01 तहसील लोहावट के 44 गांवों में 70 से 80 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला करौली की 01 तहसील टोडाभीम के 01 गांव में 40 से 50 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। इसी प्रकार जिला सवाईमाधोपुर की 01 तहसील खण्डार में 50 से 60 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है।

इन जिलों में 33 प्रतिशत से कम फसल नुकसान

मास्टर मेघवाल ने कहा कि जिला बून्दी, बीकानेर, चूरू एवं झुंन्झुनूं में 33 प्रतिशत से कम खराबे की सूचना प्राप्त हुई है। उन्होंने बताया कि जिला बून्दी की 02 तहसील, बून्दी के 03 गांव में 10 से 15 प्रतिशत एवं हिण्डोली 11 गांवों में 15 से 20 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। जिला बीकानेर की 01 तहसील खाजूवाला के 04 गांव में 05 से 15 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। इसी प्रकार जिला चूरू की 04 तहसील, राजगढ़ के 16 गांवों में 5 से 15 प्रतिशत, रतनगढ़ के 06 गांव में 05 से 25 प्रतिशत, सरदारशहर के 06 गांवों में 05 से 25 प्रतिशत एवं चूरू के 08 गांवों में 10 से 30 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। इसी प्रकार जिला झुंन्झुनूं की 03 तहसील, खेतड़ी के 33 गांव में 05 से 25 प्रतिशत, झुंन्झुनूं के 19 गांवों में 05 से 20 प्रतिशत एवं उदयपुरवाटी के 20 गांवों में 05 से 15 प्रतिशत खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है।

33 प्रतिशत से अधिक फसल नुकसान पर मुआवजा

5 मार्च 2020 को मुख्य सचिव द्वारा सभी जिला कलक्टर्स को निर्देशित किया गया है कि प्रारंभिक आकलन की सूचना भिजवा कर, गिरदावरी (7डी) रिपोर्ट शीघ्र तैयार कर भिजवाने की कार्यवाही करें, 33 प्रतिशत या इससे अधिक फसल खराबा प्राप्त होने पर एसडीआरएफ नॉर्म्स के अनुसार कृषि आदान अनुदान दिया जाएगा

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

The post ओले गिरने से हुए फसल नुकसान का आकलन करने के लिए चलाया जाएगा गिरदावरी अभियान appeared first on Kisan Samadhan.

Source