//किसानों के लिए बड़े फायदे का सौदा है ऑर्गेनिक खेती और लोगों के स्वास्थ्य के लिए भी, जानिए कैसे

किसानों के लिए बड़े फायदे का सौदा है ऑर्गेनिक खेती और लोगों के स्वास्थ्य के लिए भी, जानिए कैसे

आर्गेनिक खेती
– फोटो : सांकेतिक तस्वीर

ख़बर सुनें

आपकी रसोई में जो गेहूं इस्तेमाल हो रहा है और जो सब्जियां पकाई जा रही हैं, क्या वह सेहत सुरक्षा की कसौटी पर खरी उतरती हैं? क्या आप जो फल खा रहे हैं, उसमें कीटनाशक दवाओं का इस्तेमाल तो नहीं किया गया है? यह ऐसे सवाल हैं जो आज के समय में खुद से करना जरूरी हो गया है। इसका मुख्य कारण है कि आज हम जो सब्जियां, फल और गेहूं आदि का इस्तेमाल कर रहे हैं, उसको उगाने, पकाने के लिए पेस्टिसाइड दवाओं का इस्तेमाल किया जा रहा है। जो हमारे शरीर के लिए घातक सिद्ध हो रहा है।

विज्ञापन

लेकिन अगर आप कुछ रुपये ज्यादा खर्च करें तो आपको ऑर्गेनिक सब्जियां, गेहूं, फल और अन्य ऐसे खाद्य पदार्थ मिल सकते हैं जो आपकी सेहत के लिए फायदेमंद है। पंजाब में ऑर्गेनिक खेती की बात करें तो पंजाब में यह खेती 6 से 7 हजार एकड़ में की जा रही है। ऑर्गेनिक खेती करने वाले किसान इसमें सब्जियां, फल, सरसों का तेल, गेहूं, गन्ना, चावल आदि की फसलें लगा रहे हैं। इसमें 90 प्रतिशत जो ऑर्गेनिक फसल उगाई जा रही है वह गेहूं, चावल और गन्ने की ही है। मात्र 10 प्रतिशत रकबा ऐसा है, जिस पर सब्जियों और फलों की खेती की जाती है।

सब्जियों और फलों की खेती कम होने का कारण यह है कि सब्जियों व फलों की सेल के लिए कोई बड़ी मार्केट नहीं है। जिसमें किसान जाकर अपनी फसल बेच सकें। यह ही कारण है कि किसान ज्यादातर गेहूं, चावल और गन्ना उगाने में दिलचस्पी दिखा रहे हैं। गेहूं, चावल और गन्ने की खरीद जल्द हो जाने के कारण किसान इनकी खेती करना ज्यादा फायदेमंद समझते हैं।

विज्ञापन

आगे पढ़ें

दोगुने दाम पर बिकती है आर्गेनिक गेहूं, तेल और अन्य पदार्थ

विज्ञापन

Source