//किसान मुर्गी पालन एवं फूलों की खेती शुरू करने के लिए निःशुल्क ट्रेनिंग हेतु आवेदन करें

किसान मुर्गी पालन एवं फूलों की खेती शुरू करने के लिए निःशुल्क ट्रेनिंग हेतु आवेदन करें

मुर्गी पालन एवं फूलों की खेती हेतु प्रशिक्षण

किसानों की आय 2022 तक दुगना करने के लिए केंद्र सरकार ने कुछ लक्ष्य निर्धारित किये हैं | इसमें पशुपालन, मुर्गी पालन, मछली पालन के साथ फूलों की खेती को बढ़ावा देना है | किसानों को इन विषयों में कुशल बनाने के लिए समय–समय पर अलग–अलग विषयों पर प्रशिक्षण दिया जाता है जिससे किसान खेती के साथ–साथ स्वरोजगार भी स्थापित कर सकें | यह प्रशिक्षण केंद्र सरकार के द्वारा चलाई जा रही कौशल विकास योजना के तहत है | जिसमें किसानों को कृषि वैज्ञानिकों के द्वारा किसी खास विषय पर प्रशिक्षण दिया जाता है | यह प्रशिक्षण कृषि विश्वविद्यालय के अलावा जिलों में स्थापित किये गए कृषि विज्ञान केन्द्रों पर दिया जाता है |

इसी के अंतर्गत मध्य प्रदेश के दतिया जिले में किसानों को मुर्गी पालन तथा फूलों की खेती के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है | जिसमें जिले के सभी किसान भाग लेकर इस अवसर का लाभ प्राप्त कर सकते हैं | इसके अतिरिक्त जो भी किसान इस तरह के प्रशिक्षण लेना चाहते हैं वो किसान अपने-अपने जिलों के कृषि विज्ञान केंद्र में आवेदन कर सकते हैं |

प्रशिक्षण किस विषय पर दिया जा रहा है ?

इस बार का प्रशिक्षण इन दो विषय पर दिया जा रहा है |

  1. मुर्गी पालन
  2. फूलों की खेती

प्रशिक्षण (Training) कहाँ दी जाएगी ?

देश के सभी जिलों में कृषि विकास केंद्र है जहाँ समय–समय पर किसानों को अलग–अलग विषय पर प्रशिक्षण दिया जाता है | इसी के तहत मध्य प्रदेश के दतिया जिले में जिले के कृषि विज्ञान केंद्र के द्वारा किसानों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है | ट्रेनिंग के लिए एक माह का समय निर्धारित किया गया है | इसकी शुरुआत 1 फरवरी से किया जा रहा है जो इस माह के अन्त तक चलेगी |

शैक्षणिक योग्यता

ट्रेनिग के लिए दतिया कृषि विज्ञानं केंद्र ने आवेदकों के लिए कम से कम 8 वीं पास की योग्यता रखी है | इसका मतलब की 8वीं या उससे ज्यादा योग्यता वाले किसान इस प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं |

प्रशिक्षण के लिए उम्र सीमा क्या है ?

दतिया जिले के कोइ भी किसान जिनकी उम्र 18 वर्ष से 35 वर्ष तक है वह एक माह का प्रशिक्षण प्राप्त कर सकता है | 35 वर्ष से अधिक उम्र के किसान इस प्रशिक्षण के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं |

प्रशिक्षण शुल्क (Training Fees)

यह बहुत ही महत्वपूर्ण बात है कि ट्रेनिंग के लिए किसानों से कोई फीस नहीं देनी है | कोई भी किसान मुर्गी पालन तथा फूलों की खेती के लिए ट्रेनिंग बिना किसी शुल्क के प्राप्त कर सकते हैं | मुर्गी पालन तथा फूलों की खेती की ट्रेनिंग बिलकुल नि:शुल्क है

इसके साथ ही किसान दतिया शहर से दूर से आते हैं तो उनके लिए रुकने और भोजन की व्यवस्था की गई है | यह सभी अभ्यार्थी के लिए लागु है  जो अभियार्थी कृषि विज्ञान केंद्र में रुकना चाहते हैं उनके लिए रुकने की व्यवस्था तथा भोजन की व्यवस्था की गई है, वह भी एक माह तक के लिए |

प्रशिक्षण के लिए कहाँ संपर्क करें ?

दतिया जिले के किसान इसके लिए जिले के हमीरपुर में स्थापित कृषि विज्ञान केंद्र में जाकर प्रशिक्षण के लिए पंजीयन करवा  सकते हैं | किसानों को इस प्रशिक्षण में भाग लेने के  लिए 31 जनवरी से पहले सूचित करना होगा |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

The post किसान मुर्गी पालन एवं फूलों की खेती शुरू करने के लिए निःशुल्क ट्रेनिंग हेतु आवेदन करें appeared first on Kisan Samadhan.

Source