/गाजर, मटर, किन्नू, अमरूद, शिमला मिर्च, बैंगन भी भावांतर के दायरे में, मुख्यमंत्री खट्टर ने की घोषणा

गाजर, मटर, किन्नू, अमरूद, शिमला मिर्च, बैंगन भी भावांतर के दायरे में, मुख्यमंत्री खट्टर ने की घोषणा

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Wed, 13 Nov 2019 03:12 PM IST

ख़बर सुनें

हरियाणा सरकार ने प्रदेश में दो वर्षों के दौरान सब्जियों की भावांतर भरपाई योजना के अंतर्गत कुछ और फसलों को इस योजना में शामिल करने का निर्णय लिया है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मंगलवार को चंडीगढ़ में भावांतर भरपाई योजना की समीक्षा बैठक ली। 

विज्ञापन

बैठक में उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव वी उमाशंकर के अलावा बागवानी विभाग के महानिदेशक और कृषि विभाग के महानिदेशक भी उपस्थित थे।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि भावांतर भरपाई योजना के तहत आलू, प्याज, टमाटर और गोभी के अलावा अब गाजर, मटर, किन्नू, अमरूद, शिमला मिर्च और बैंगन को भी शामिल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि योजना के तहत गाजर का मूल्य 700 रुपये प्रति क्विंटल और मटर का मूल्य 1100 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है। 

Advertisements

मुख्यमंत्री ने कहा कि शिमला मिर्च और बैंगन के मूल्य का निर्णय हरियाणा किसान कल्याण आयोग के अध्यक्ष की अध्यक्षता में गठित कमेटी की सिफारिश के आधार पर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों को ‘मेरी फसल मेरा ब्योरा’ पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवाना होगा और मंडियों में उनके उत्पाद की बिक्री पर यदि उन्हें अपनी फसल के लिए संरक्षित मूल्य से कम मिलता है तो बिक्री मूल्य और संरक्षित मूल्य के अंतर की राशि को प्रोत्साहन के रूप में किसानों के बैंक खातों में सीधे जमा करवाया जाएगा।

Source

Advertisements