//जलवायु परिवर्तन : धान की फसल में रोग बढ़े, बाढ़ व सूखा बिगाड़ रहा गणित

जलवायु परिवर्तन : धान की फसल में रोग बढ़े, बाढ़ व सूखा बिगाड़ रहा गणित

मौसम की चाल बदलने से भारत में बाढ़, सूखा और बेमौसम बारिश लगातार बढ़ती जा रही हैं। मौसम के इस बदलाव को न समझ पा रहे किसानों को लगातार नुकसान हो रहा है। जलवायु परिवर्तन के  प्रभाव से वैज्ञानिक जिन बीमारियों व नुकसान के बारे में अपने शोध से आगाह करते आ रहे हैं, उसका असर किसान को खेतों में दिखाई देने लगा है। भारत में जलवायु परिवर्तन के कृषि पर पड़ रहे प्रभावों को दिखाती मनीष मिश्र की रिपोर्ट…

यूपी के बाराबंकी जिले के किसान रामसांवले शुक्ला धान की खेती से इसलिए परेशान हैं कि उन्हें पता ही नहीं रहता कि मानसून के दौरान कब क्या होने वाला है? कभी पानी पहले बरस जाता है, वहीं जब जरूरत होती है बारिश नहीं होती। जब बारिश होती है तो इतनी कि फसल चौपट, बाकी समय सूखा।

रामसांवले जलवायु परिवर्तन के बारे में तो अच्छे से नहीं जानते पर ये बदलाव वो अपनी धान की फसल के दौरान कई वर्षों से महसूस कर रहे हैं। रामसांवले कहते हैं, कभी समय पर बारिश नहीं होती, धान की फसल में रोग अधिक लगने लगे हैं, सो अलग।

धान की खेती में मानसून की अनिश्चितता के मंडराते बादलों से रामसांवले की तरह देश के करोड़ों किसान परेशान हैं, जिनका रोग से बचाव व सिंचाई का खर्च बढ़ने नुकसान अधिक हो रहा है।

Source