//पहले खेती में हो रहा था घाटा, अब 10 लाख कमा रहा ये किसान, आप भी अपनाएं ये तरीका

पहले खेती में हो रहा था घाटा, अब 10 लाख कमा रहा ये किसान, आप भी अपनाएं ये तरीका

विकास छिंपा, अमर उजाला, भूना/ फतेहाबाद (हरियाणा)
Updated Sun, 06 Oct 2019 07:03 PM IST

प्रतीकात्मक तस्वीर
– फोटो : social media

ख़बर सुनें

हरियाणा के गांव दहमान के एक किसान ने लगातार परंपरागत खेती की और उसे प्रतिवर्ष पांच से सात लाख के बीच घाटा उठाया । मगर जब परंपरागत खेती को त्याग दिया तो लाखों रुपये के वारे न्यारे हो गए। किसान ने परंपरागत को छोड़कर बागवानी एवं नर्सरी को बढ़ावा दिया अन्य लोगों को रोजगार भी दे दिया। अब किसान और प्रतिवर्ष खर्चा निकाल कर 10 लाख रुपए की बचत कर रहा है।

विज्ञापन

गांव दहमान के किसान फूल कुमार दहिया के पास कृषि योग्य 12 एकड़ जमीन है। जिसमें किसान पिछले कई वर्षों से नरमा, गेहूं व धान इत्यादि की फसल की पैदावार ले रहा था। मगर किसान को आमदनी होने की बजाए घाटा होता जा रहा था। जिसको लेकर किसान फूल कुमार ने उपरोक्त फसलों को छोड़कर 12 एकड़ में  बाग व नर्सरी फार्म खोल दिया। जिसके बाद किसान तरक्की करता चला गया।

किसान ने बाग में आडू शान ऐ पंजाब व आलू बुखारा सतलुज परपल की किस्में लगाई हुई हैं। इसके अतिरिक्त हिसार सफेदा अमरूद एवं पेमली बेर के बाग आदि के साथ साथ पौने एकड़ में नर्सरी का फार्म बनाया हुआ है। नर्सरी फार्म में डेकोरेशन एवं छायादार पौधे सीजनल तथा सदाबहार  मिलते हैं।


आगे पढ़ें

विज्ञापन

Source